मुख्य पृष्ठ » विकास गतिविधियाँ
विकास गतिविधियाँ

सरायं/धर्मशाला की व्यवस्था

मंदिर न्यास द्वारा यात्रिओं/श्रधालुओं की सुविधा हेतु मंदिर के समीप पटियाला धर्मशाला, लंगर एवं लंगर के समीप धर्मशाला का निर्माण करवाया गया है,जिनमे लगभग १००० श्रधालुओं के नि:शुल्क ठहरने की व्यवस्था है| इसके आलावा मंदिर न्यास द्वारा बस अड्डे पर मात्री आंचल, मात्री शाया एवं मंदिर के समीप मात्री शरण(४५ कमरे एवं १४ डोरमेट्री)में ठहरने की उचित वयवस्था है|

शौचालयों एवं स्नानागारों की व्यवस्था

मंदिर न्यास श्री नयना देवी जी द्वारा कौलां वाला टोबा में १८ शौचालयों एवं ५ स्नानागार, ३ पेशाब घरों का निर्माण करवाया गया है | श्री नयना देवी जी के बस अड्डे पर २९ शौचालयों एवं १० स्नानागारों का तथा बस अड्डे से मंदिर तक पैदल रास्ते पर १२ शौचालयों एवं ५ स्नानागारों का निर्माण करवाया गया है| मंदिर परिसर एवं लंगर परिसर के चारों ओर ५३ शौचालयों एवं ३० स्नानागार एवं १० पेशाब घर का निर्माण करवाया गया है|

बिजली व्यवस्था

मंदिर न्यास श्री नयना देवी जी द्वारा कौलां वाला टोबा से मंदिर परिसर तक पैदल रास्ते एवं बस अड्डे तक विधुतित कर्ण किया गया है | मंदिर न्यास श्री नयना देवी जी द्वारा मंदिर परिसर, लंगर परिसर , गुफा एवं मंदिर से गुफा तक भी विधुतित कर्ण किया गया है| न्यास द्वारा कौलां वाला टोबा एवं श्री नयना देवी जी क्षेत्र में ६ मास्ट लाइटें भी लगाई गई हैं|

पानी व्यवस्था

मंदिर न्यास श्री नयना देवी जी द्वारा पैदल रास्ते पर विभिन्न स्थानों पर पानी की टंकियां बना कर श्रधालुओं को पीने के पानी की सुविधा उपलब्ध करवाई गई है| मुख्या स्थानों पर वाटर कूलर भी लगाये गये है| मंदिर न्यास श्री नयना देवी जी द्वारा लगभग तीन लाख लीटर पानी की क्षमता के दो रेन वाटर हार्वेस्टिंग टेंको का भी निर्माण करवाया गया है| मंदिर एवं लंगर परिसर में पानी व्यवस्था को सुचारू ढंग से चलाने हेतु संपर्क मार्ग पर से टेंकरों से पानी उठाने की व्यवस्था की गई है|

चिकित्सा सुविधा

मंदिर न्यास श्री नयना देवी जी द्वारा श्रधालुओं की सुविधा हेतु आयुर्वेदिक भवन का निर्माण करवाकर हि०प्र० सरकार को सौंपा जा चुका है तथा मंदिर न्यास द्वारा प्रति माह ३ हजार रुपये की दवाइयां स्वास्थ्य विभाग को उपलब्ध करवाई जा रही हैं तथा मंदिर न्यास द्वारा मेला के दौरान स्वंय सेवी संगठनों को लगभग ५० हजार की दवाइयां श्रधालुओं को चिकित्सा सुविधा हेतु प्रदान कर रहा है |

रास्तों का निर्माण

मंदिर न्यास श्री नयना देवी जी द्वारा कौलां वाला टोबा से मंदिर परिसर तक एवं श्री नयना देवी जी क्षेत्र में लगभग ७ कि०मी० रास्तों को पक्का करवाया गया है| श्रधालुओं की सुविधा हेतु बस अड्डे से मंदिर तक दो रास्तों का निर्माण करवाया गया है| जिससे मेला के दौरान एक रास्ते से श्रधालुओं को मंदिर भवन को भेजा जाता है तथा दुसरे रास्ते से बस अड्डे को भेजा जाता है | चुन्गीधर से मंदिर तक , मंदिर से लंगर तक एवं गुफा से मंदिर परिसर तक मुख्या रास्तों पर कोटा स्टोन लगवाया गया है तथा मुख्या रास्तों पर रेलिंग लगाई गई है| इसक्र अलावा मंदिर न्यास द्वारा रास्तों पर वर्षा-शालिकयों का निर्माण किया गया है| इससे आगे भी किया जा रहा है|

लंगर वयवस्था

मंदिर न्यास श्री नयना देवी जी द्वारा एक आधुनिक लंगर भवन का निर्माण करवाया गया है,जिसमे रसोई कक्ष, लंगर से सम्बंधित स्टोर एवं लंगर हाल जिसमें लगभग एक समय में ५०० श्रद्धालु बैठकर खाना खा सकते हैं| न्यास द्वारा प्रदुषण को ध्यान में रखते हुए सारा खाना/सब्जियां एल० पी०जी० गैस पर तैयार कि जाती हैं| न्यास द्वारा प्री व चपाती बनाने के लिए आधुनिक मशीने लगाई गई हैं| जिससे चपाती एवं पूरी कि गुणवता में बहुत सुधार हुआ है| मंदिर न्यास द्वारा लंगर में नाश्ता,दोपहर का खाना एवं रात्रि को भोजन नि:शुल्क उपलब्ध करवाया जा रहा है| इसके अलावा मांग पर २४ घंटे कभी भी भोजन उपलब्ध करवाया जा रहा है|

अन्य

१. मंदिर न्यास द्वारा बस अड्डे पर नि:शुल्क क्लाक रूम संचालन किया जा रहा है|
२. मंदिर न्यास द्वारा उप मंडल सदर बिलासपुर में सभी धर्मों के गरीब परिवारों की लड़कियों को शादी हेतु वित्तीय सहायता प्रदान की जा रही है |
३. मंदिर न्यास द्वारा उप मंडल सदर बिलासपुर में सभी धर्मों के गरीब परिवारों के असाध्य बीमारी से पीड़ित लोगों को वित्तीय सहायता प्रदान की जा रही है |
४. मंदिर न्यास द्वारा उप मंडल सदर बिलासपुर में सभी धर्मों के गरीब परिवारों को उच्च शिक्षा के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की जा रही है |
५. मंदिर न्यास द्वारा विभिन्न स्थानों पर पार्किंग स्थल बनाये गए हैं और श्री नयना देवी जी के विभिन्न संपर्क मार्गों का निर्माण हि० प्र० लोक निर्माण विभाग द्वारा करवाया जा रहा है|
६. मंदिर न्यास द्वारा विना लाभ-हानि से यात्रियों/ श्रधालुओं की सुविधा हेतु प्रसाद की दुकान चलाई जा रही है |
७. मंदिर न्यास द्वारा मंदिर परिसर में ब्रास रेलिंग चलाई गई है जिससे श्रद्धालु कतार वध माता जी के दर्शन कर सकते हैं|
८. मंदिर न्यास द्वारा शिक्षा संस्थाओं को नि:शुल्क छत वाले पंखे भी मांग अनुसार उपलब्ध करवाए जा रहे हैं|

कर्मचारी

कमेटी द्वारा संचालित संस्कृत महाविद्यालय में ५, श्री शक्ति उच्च विद्यालय-५, मंदिर परिसर में प्रबंध हेतु २१ एवं लंगर के संचालन हेतु १८ कुल ४९ कर्मचारी नियुक्त किए गए थे|

पूजा अर्चना

मंदिर न्यास श्री नयना देवी जी द्वारा पूर्व प्रथा के अनुसार पूजा अर्चना का कार्य स्थानीय पुजारियों द्वारा किया जा रहा है| न्यास के पूर्व प्रति माता जी के स्नान हेतु शुद्ध जल वावडी से से एक गागर लाई जाती थी मंदिर न्यास गठन के उपरान्त माता जी के भोग हेतु भी दो गागरें लेन का प्रावधान किया गया एवं माता जी के लिए सोने के गहने भी बनाए गए तथा मंदिर न्यास द्वारा मुख्या मंदिर(गर्भ गृह) की दीवारों एवं छत में सोना लगाने का कायर किया जा रहा है| भोग प्रसाद बनाने वाली रसोई में भी सुधार किया गया है| मुख्या मंदिर में श्रधालुओं की सुविधा को देखते हुए एक अतिरिक्त दरवाजा भी निकला गया है|
दिनांक १७.१२.१९८५ को जब मंदिर न्यास का गठन हुआ था तो मंदिर श्री नयना देवी जी की वार्षिक (वर्ष-१९८६) आय मु० ३२,९१,२९७.०० रु० थी| मंदिर न्यास श्री नयना देवी जी द्वारा श्रधालुओं को मूल सुविधा प्रदान करने के कारण इस समय मंदिर न्यास श्री नयना देवी जी की वार्षिक(वर्ष-२००७) आय मु० ७,५९,६२,२३७.०० रु० हुई है|